Jo hota hai ache ke liye hota hai 2020- Best Motivational

2
218

Jo hota hai ache ke liye hota hai – Motivational – wisdom info

हमने यह बात बचपन से सुनी है, आपने भी सुना होगा जब हमारे बुजुर्ग कहते थे की जो होता है अच्छे के लिए होता है। (Jo hota hai ache ke liye hota hai )

लेकिन यह बात हमे  सही मायने में कई बार समझ में नहीं आती है।  जिंदगी कभी कभी ऐसे  बुरे अनुभव हमें देती है जिससे हमें ऐसा लगने लगता है की इतना बुरा मेरे साथ क्यों हुआ।
लेकिन कुछ समय निकल जाने के बाद हमे एहसास होता है की शायद से जो उस वक्त हुआ था वह अच्छा हुआ था।
jo hota hai ache ke liye hota hai
jo hota hai ache ke liye hota hai
देखिये जीवन हमें समझने में थोड़ा समय लगता है।  बहोत बार हमारे जीवन मै कई बुरी घटनाएं घटती है।  लेकिन उसका परिणाम सही है या गलत यह बात समझने के लिए थोड़ा वक्त गुजरना पड़ता है।
हमारे साथ जो भी होता है वो अच्छे के लिए होता है।  आइए जानते है हमारी अगली कहानी से:-
यह कहानी है अकबर और बीरबल की:

Jo hota hai ache ke liye hota hai

एक बार अकबर और बीरबल आपस में बाते करते रहते है।  अकबर कहता है, “कल मेरी ऊँगली में गलती से तलवार लग गयी और खून बहने लगा।”  अकबर अपनी ऊँगली पर लगी जखम बीरबल को दिखता है।
अकबर की बात सुनकर बीरबल कहता है, “महाराज आपको दर्द होता होगा, पर कोई बात नहीं जल्द ही ठीक हो जायेगा। और आगे कहता है, “महाराज, निश्चिंत रहे जो होता है अच्छे के लिए होता है।’

Jo bhi hota hai bhale ke liye hota hai

बीरबल के यह बात सुनकर अकबर को गुस्सा आता है।  अकबर बीरबल पर गुस्सा होकर कहता है,  “मेरी ऊँगली कट गयी है और तुम मुझे कहते हो की जो भी होता है वो अच्छे के लिए होता है?”
बीरबल समझने की कोशिश करता है पर अकबर एक भी नहीं सुनता है।  मेरी तकलीफ देखकर बीरबल को आनंद हुआ ऐसा सोचकर अकबर दरबारियों को आदेश देता है और बीरबल को बंदी बनाकर जेल में डालने का आदेश देता है। और गुस्से में कहता है “अब कहो की जो भी होता है वो अच्छे  होता है।
” बंदी अवस्था मै रहे बीरबल अपने चेहरे पे मुस्कुराते हुए हाँ कहता है।  बीरबल का मुस्कुराना देखकर अकबर बीरबल को जेल में ले जाने का आदेश देता है।

अगले दिन अकबर जंगल में शिकार के लिए अकेले निकलता है।  हमेशा बीरबल उनके साथ होता था लेकिन बीरबल को शिक्षा दी थी इसलिए अकबर अकेलही शिकार पर चले गए थे।
जंगल में शिकार करते करते बोहोत दूर तक अकबर पोहोच जाते है।  अकबर को उस जंगल के आदिवासी का झुण्ड पकड़ लेता है।
जंगल के आदिवासियों राजा  अकबर को बंदी बनता है।  और सभी आदिवासी अकबर की बलि दे के आपने देवता को प्रसन्न करने का तय करते है।
अकबर यह बात सुनकर घबरा जाता है।  लेकिन बंदी बना हुआ अकबर कुछ नहीं कर पता है।  अकबर को बंदी बनाकर जिस देवता को बलि चढ़ानी है उस जगह पर ले आते है।  अकबर बोहोत घबराया हुआ रहता है।
अकबर को बलि चढाने के लिए तैयार किया जाता है। उस वक्त उन आदिवासियों की नजर अकबर की कटी हुई ऊँगली पर जाती है।  आदिवासी यह बात उनके उनके राजा को बताते है।
जिस की हम बलि दे रहे है उसकी ऊँगली कटी हुई है इसलिए यह इंसान बलि देने लायक नहीं है यह तय करकर राजा अकबर को छोड़ देने की घोषणा कर देता है।
अकबर को उस वक्त बोहोत आनंद होता है और उसे बीरबल के वो शब्द याद आते है जो उसने कहे थे की जो होता है वो अच्छे के लिए होता है (Jo hota hai ache ke liye hota hai )।  अगर अकबर की ऊँगली कटी हुई नहीं होती तो आज अकबर की बलि चढ़ गयी होती।
अकबर अपनी जान बचने के कारन ख़ुशी ख़ुशी अपनी राज्य को और बढ़ता है।  महल में आते ही अकबर आदेश देता है की बीरबल को जल्द से रिहा कर दिया जाये।
दूसरे दिन अकबर दरबार में बीरबल का सन्मान करता है और कहता है की मेरी कटी हुई उगंली के वजह से में आज जिन्दा हूँ और तुमने जैसे कहा था के जो भी होता है वह अच्छे के लिए होता है उसका अनुभव मुझे मेरी कल की घटना से ज्ञात हुआ।
बीरबल हसकर जवाब देता है की यह तो जीवन की सिख है जो हमें बाद में समझती है।
अकबर बिरबल से फिरसे सवाल करता है की मेरी घटना से तो मैंने जाना के जो भी हुआ वो अच्छे के लिए हुआ पर तुम्हारी घटना में तो तुम्हे तकलीफ हुई तुम्हे मैंने बंदक बनाया जेल भेजा फिर तुम्हारे साथ जो हुआ वो अच्छा कैसे था।
बीरबल ने हसकर जवाब दिया महाराज मेरे साथ जो हुआ वो भी अच्छे के लिए हुआ।  अकबर ने पूछा कैसे ?
बीरबल बोला अगर आप मुझे बंदी नहीं बनाते और मुझे जेल में नहीं डालते तो उस दिन शिकार के लिए आप मुझे अपने साथ ले जाते और हम दोनों उस जंगल में आदिवासियों द्वारा बंदी बना दिए जाते और हमारी बलि चढ़ जाती।
बीरबल आगे हसकर कहता है महाराज आपकी ऊँगली कटी होने के कारन आपकी बलि नहीं चढ़ी लेकिन मेरे शरीर पर तो एक भी घाव नहीं था तो मेरी बलि वह चढ़ ही जाती।
इसलिए मैंने कहा की जो होता है वो अच्छे के लिए होता हैJo hota hai ache ke liye hota hai .

Jo hota hai ache ke liye hota hai story in hindi,  आपको यह सिख कैसे लगी और आपको यह लेख कैसा लगा हमें जरूर comment कर के लिखे।  आपके साथ भी अगर इस सिख के सम्बंधित कोई अनुभव है तो हमे जरूर बताये। Motivation.

आप यह लेख आपने प्रियजनों  जरूर share करे।
web title: Jo Hota hai ache ke liye hota hai – Motivational -wisdom info

2 COMMENTS

  1. […] अब्दुल कलाम निरंतर विज्ञानं के लिए नया-नया काम करते रहे जिसमें उन्होंने भारत के पहले परमाणु परिक्षण को भी साकार करने में अपना सहयोग दिया।  इतना ही नहीं, इन्होंने नासा यानि नेशनल एरोनॉटिक्स एन्ड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन की यात्रा भी की।  अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत की इतनी तरक्की दिलाने से भारत सर्कार द्वारा १९८१ में इन्हें पद्म भूषण से नवाजा गया।सं १९८२ में उन्होंने गाइडेड मिसाइल पर काम किया।  अंतरिक्ष के क्षेत्र में इतनी लगन और निष्ठा को देखते हुए भारत सरकार ने १९९० में फिर इन्हें पद्म विभूषण से नवाजा जो की बहुत ही गर्व की बात है।अब्दुल कलामजी को रक्षा मंत्री के विज्ञानं सलाहकार के रूप में भी चुना गया।  जिस पर वो १९९२ से १९९९ तक रहे। इतनी ही नहीं इस कार्यकाल के मध्य में यानि १९९७ में उन्हें भारत रत्न से नवाजा गया।  इसी तरह योगदान देते हुए उन्होंने आगे भारत के दूसरे परमाणु परिक्षण को सफल बनाया।you can read: jo hota hai ache ke liye hota hai […]

  2. […] you can also read: Jo hota hai ache ke liye hota hai aisa kyu kehte hai? […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here